छत्तीसगढ़ का प्राचीन इतिहास ( Part-4 गुप्तकाल काल )


chhattisgarh history notes in hindi – gupt kaal

  1. गुप्त सम्राट समुद्रगुप्त (400 ई.) के दरबारी कवि हरिषेण की प्रयाग प्रशस्ति में समुद्रगुप्त के दक्षिण भारत के धर्मविजय अभियान का उल्लेख है . इस अभियान के दौरान समुद्रगुप्त ने दक्षिण कोसल के शासक महेंद्र एवं महाकान्तार ( बस्तर क्षेत्र ) के शासक व्याघ्र्राज को परास्त किया , पर इस क्षेत्र का गुप्त साम्राज्य में विलय नहीं किया गया .
  2. बानबरद ( जिला – दुर्ग ) एवं आरंग ( जिला – रायपुर ) से प्राप्त गुप्तकालीन सिक्को से भी स्पस्ट होता है कि यहाँ के क्षेत्रीय शासकों ने गुप्तवंश का प्रभुत्व स्वीकार क्र लिया था .

* महत्वपूर्ण तथ्य :- 

  1. आरंग में कुमारगुप्त का सिक्का मिला है .
  2. 1972 में दुर्ग के बानाबरद से गुप्तकालीन 9 सिक्के प्राप्त हुए हैं :-
    1. 1- कांच (समुद्रगुप्त) ,
    2. 7-चन्द्रगुप्त द्वितीय तथा
    3. 1- कुमारगुप्त का 
  3. खरसिया के पास से विक्रमादित्य का धनुर्धारी सिक्का प्राप्त हुए है
  4. रायपुर के पिटाईवल्द से 1 सिक्का प्राप्त जिसमें – हरिषेण कृत प्रयाग प्रशस्ति में समुद्रगुप्त द्वारा पराजित दक्षिण कोशल के राजा महेंद्र व महाकान्तार के अधिपति व्याघ्र्राज का नाम उल्लेखित है .

Join Our whatsapp group and download our app for daily notification and updates


Related Post
Welcome to cgpsc.info

हमारे एंड्राइड अप्प को डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए प्ले स्टोर आइकॉन पर क्लिक करें- धन्यवाद