जानिए राजकीय पशु वन भैंसा दिपाशा


about chhattisgarh rajkiy pashu dipasha

  1. छत्तीसगढ़ प्रदेश अपने राजकीय पशु वन भैसे की संरक्षण हेतु अनेक उपाय कर रहा है जिससे की उसकी संख्या में संवर्धन किया जा सके| इसके तहत छत्तीसगढ़ के राजकीय पशु वन भैंसा के संवर्धन के लिए जंगल सफारी में निर्मित ब्रीडिंग सेंटर में पंजाब के करनाल से आई क्लोन मादा वन भैंस दिपाशा को रखा गया है। 3 वर्ष की 8 क्विंटल वजनी इस मादा वन भैंसा को अभी चिकित्सकीय परीक्षण में रखा गया है।
  2. दिपाशा मादा वन भैंस को पंजाब के करनाम में क्लोन पशु वैज्ञानिकों ने इसे तैयार किया है और इसका नाम दिपाशा रखा गया| इसके रखने के लिए एक विशेष तरह का बाड़ा तैयार किया गया है जहाँ किसी के जाने की इजाजत नहीं है इसके साथ ही जंगल सफारी में एक नर वन भैसें की लाने की तैयारी की जा रही है जिससे की वंश वृद्धि की जा सके| इस मादा भैसें दिपाशा को नेशनल डेयरी रिसर्ट इंस्टिट्यूट करनाल हरियाणा (एनडीआरआई) ने क्लोनिंग करके बनाया गया था| इसे एनडीआरआई ने देश में सबसे सर्वशुद्ध नस्ल की मादा वन भैंस आशा के टिश्यू से बनाया गया था| दिपाशा ढ़ाई वर्ष की है|
  3. दिपाशा का डीएनए सर्वशुद्ध नस्ल की मादा वन भैंसा आशा के डीएनए से मेल खाता है। जो नेशनल डेयरी रिसर्ट इंस्टिट्यूट करनाल हरियाणा (एनडीआरआई) ने अप्रैल 2013 में आशा के टिश्यू लेकर क्लोनिंग कराने के लिए 27 सामान्य भैंसों के गर्भ में डाला। इसमें तीन भैंसों ने गर्भ धारण किया, लेकिन सिर्फ एक ही बच्चे को जन्म दे सकी। जो दिपाशा है|



Join Our whatsapp group and download our app for daily notification and updates


Related Post
Welcome to cgpsc.info

हमारे एंड्राइड अप्प को डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए प्ले स्टोर आइकॉन पर क्लिक करें- धन्यवाद