छत्तीसगढ़ प्रदेश मानवाधिकार कार्यकर्त्ता सुधा भारद्वाज की गिरफ्तारी


छत्तीसगढ़ की मानवाधिकार कार्यकर्ता पीपुल्स यूनियन ऑफ सिविल लिबर्टी (पीयूसीएल) की महासचिव सुधा भारद्वाज की गिरफ्तारी की गई है इस हेतु अनेक मानवाधिकार संघठन ने इसकी निंदा की है मानवाधिकार संगठनों, इंडियन लायर्स एसोसिएशन, लेखकों, बुद्धिजीवियों ने सुधा की गिरफ्तारी की निंदा की है। इसके साथ ही प्रदेश के अन्य संगठनों ने जैसे भिलाई के मजदूर संगठनों, बस्तर में पुलिस और नक्सलियों के बीच दोतरफा फंसे आदिवासियों, रायगढ़, जशपुर, सरगुजा, कोरबा में कंपनियों से लड़ रहे ग्रामीणों और संगठनों में भारी आक्रोश व्यक्त किया है| उनकी गिरफ़्तारी के खिलाफ कई शहरों में प्रदर्शन भी किया गया|

सुधा भारद्वाज के बारे में

  1. सुधा दीदी, सीमेंट मजदूरों वाली सुधा दीदी, छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा वाली सुधा दीदी आदि नामों से जानते हैं। उन्होंने अपनी पढ़ाई आईआईटी से की है तथा अपने जीवन को मजदूरों के बीच बिताने का फैसला लिया|
  2. वह 1985-86 में वे भिलाई चली आईं और शंकर गुहा नियोगी के आंदोलन से जुड़ गईं। उन्होंने मजदूरों के हक़ में कई बार आवाज उठाई तथा उन्हें न्याय दिलाने हेतु अनेक कार्य किये उन्होंने मजदूरों को हक़ दिलाने हेतु वकालत आरम्भ किया इसके लिए उन्होंने 40 वर्ष की उम्र में पढ़ाई चालू की| उन्होंने ने जनहित नाम से संगठन बनाया है। यह संगठन हाई कोर्ट से सुप्रीम कोर्ट तक गरीबों के मुकदमें मुफ्त में लड़ता है।

Join Our whatsapp group and download our app for daily notification and updates


Related Post
Welcome to cgpsc.info

हमारे एंड्राइड अप्प को डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए प्ले स्टोर आइकॉन पर क्लिक करें- धन्यवाद