छत्तीसगढ़ प्रदेश के बारे में (महत्वपूर्ण छत्तीसगढ़ स्टेट गवर्नमेंट परीक्षाओं हेतु)


Establishment of chhattisgarh state
छत्तीसगढ़(36 गढ़ों का राज्य) भारत के 29 राज्यों में से एक है| यह देश के केंद्र से पूर्व में स्थित है| छत्तीसगढ़ भारत का 10वा सबसे बड़ा राज्य है छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल 135,191 किलोमीटर है तथा इसकी जनसँख्या लगभग 2 करोड़ तथा 55 लाख है| जनसँख्या की दृष्टि से 17वा सबसे बड़ा राज्य है| यह खनिज की दृष्टि से अत्यंत समृद्ध राज्य है| यहाँ इस्पात खनिज की भरमार है तथा यहाँ विद्युत का उत्पादन भी अधिक है छत्तीसगढ़ प्रदेश देश के इस्पात उत्पादन का 15% उत्पादन करता है तथा छत्तीसगढ़ प्रदेश भारत का एक अत्यंत प्रगतिशील राज्य है|छत्तीसगढ़ प्रदेश का गठन 1 नवंबर 2000 को हुआ था इसे मध्यप्रदेश राज्य से 10 छत्तीसगढ़ी तथा 6 गोंडी बोलने वाले मध्यप्रदेश के दक्षिणी भाग को अलग करके बनाया गया था तथा रायपुर को छत्तीसगढ़ प्रदेश की राजधानी बनाई गई| छत्तीसगढ़ राज्य की सीमा 7 राज्यों को छूती है इसमें से उत्तर पश्चिम से मध्यप्रदेश की सीमा,उत्तर में उत्तरप्रदेश की सीमा,उत्तर पूर्व में झारखंड,दक्षिण पश्चिम से महाराष्ट्र राज्य की सीमा तथा दक्षिण से तेलंगाना तथा आंध्रप्रदेश तथा ओड़िसा की सीमा छत्तीसगढ़ प्रदेश की सीमा को छूती है| वर्तमान में छत्तीसगढ़ प्रदेश में 27 जिले है|

छत्तीसगढ़ का इतिहास

  1. छत्तीसगढ़ से सम्बंधित इतिहास में अनेक मत है जिससे छत्तीसगढ़ के निर्माण की जानकारी मिलती है प्राचीन इतिहास में छत्तीसगढ़ को दक्षिण कौशल के नाम से भी जाना जाता है| आधुनिक भारत में जब मराठों ने अपना राज्य स्थापित किया दक्षिण कौशल को छत्तीसगढ़ के नाम से जाना जाने लगा| तथा 1795 में पहली बार छत्तीसगढ़ शब्द का उपयोग लिखित रूप किया गया|
  2. एक मान्यता के अनुसार छत्तीसगढ़ शब्द का प्रादुर्भाव यहाँ उपस्थित 36 गढ़ों के कारण हुआ है कहा जाता है की प्राचीन काल में यहाँ 36 सामंती क्षेत्र थे जो इस प्रकार है रतनपुर, विजयपुर, खरौंद, मारो, कोटगढ़, नवग्रह, सोंधी, ओखर, पडरभट्ठा, सेमरिया, चाम्पा, लाफा, छुरी, केंदा, मतीन, अपरोरा, पेंड्रा, कुरकुटी-कंद्री, रायपुर, पाटन, सिमगा, सिंगापूर, लवन, ओमेरा, दुर्ग, सरधा, सिरसा, मेंहदी, खल्लारी, सिरपुर, फिंगेश्वर, राजिम, सिंघनगढ़, सुवरमर, टेंगनगढ़ तथा अकलतरा| परन्तु इतिहासकार इस तथ्य को नहीं मानते है पुरातत्व विंभाग को 36 गढ़ों के कोई साबुत इस प्रदेश में नहीं मिले है|
  3. एक और मान्यता के अनुसार छत्तीसगढ़ का प्रादुर्भाव चेदिसगढ़ से हुआ है जिसका मतलब चेदिस का राज्य होता है इसके अनुसार छत्तीसगढ़ प्राचीन काल में कालिंका के चेदिस साम्राज्य का हिस्सा था जो वर्तमान में ओड़िसा राज्य है| मध्यकालीन युग में वर्ष 1803 तक छत्तीसगढ़ प्रदेश ओरिसा के सम्बलपुर राज्य का हिस्सा था|

नोट – आलेख अधूरा है इसे अपडेट किया जायेगा
आलेख में किसी प्रकार की त्रुटि होने पर हमारे ईमेल एड्रेस rambitd@gmail.com पर सूचित करें|

Join Our whatsapp group and download our app for daily notification and updates


Related Post
Welcome to cgpsc.info

हमारे एंड्राइड अप्प को डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए प्ले स्टोर आइकॉन पर क्लिक करें- धन्यवाद