छत्तीसगढ़ का प्राचीन इतिहास (Part-1 प्रागैतिहासिक काल)

Chhattisgarh history notes

प्रागैतिहासिक काल

प्रागैतिहासिक काल में पूर्ण पाषाण काल, मध्य पाषाण काल, उत्तर पाषाण काल और नव पाषाण काल को शामिल किया गया है

1. पूर्ण पाषाण काल :- 

● इस काल के प्रमाण – छ. ग. के रायगढ़ के सिघंपुर गुफा से प्राप्त शैल चित्रों से मिला है, ( सिंघनपुर में मानव आकृतिया, सीधी डंडे के आकर में तथा सीढ़ी के अकार में प्राप्त हुई है )
● रायगढ़ को शैलाश्रयो का गढ़ कहा जाता है
● राज्य में सबसे अधिक शैलचित्र रायगढ़ से मिला है
● अन्य स्थल : रायगढ़ के बोतल्दा, छापामाडा, भंवरखोल, गीधा सोनबरसा में शैलचित्रों के साथ-साथ लघुपाषाण औजार प्राप्त हुए है।

2. मध्य पाषाण काल :- 

● कबरा पहाड़ में स्थित कबरा गुफा से इस काल से सम्बंधित शैल चित्र मिले है ( लम्बे फलक, अर्द्धचंद्रकार, लघु पाषाण औजार आदि मिले है )

3. उत्तर पाषाण काल : –

● बिलासपुर के धनपुर से इसके प्रमाण मिले है।

● सिंघनपुर की गुफ़ा (रायगढ़ )।

● महानदी घाटी (रायगढ़ )।

● मानव आकृतियों को चित्रित किया गया है ।

● औजारों की आकृतियाँ खुदी हुई थी ।

4. नव पाषाण काल : –

● राजनंदगांव जिले के चितवाडोंगरी, दुर्ग के अर्जुनी, रायगढ़ के टेरम, से इस काल से सम्बंधित चित्रित हथौड़े का प्रमाण प्राप्त हुए है।
[ नोट : राजनांदगांव के चितवाडोंगरी के शैलाश्रयों को सर्वप्रथम श्रीभगवान दास सिंह बघेल तथा डॉ. रमेन्द्र नाथ मिश्र ने उजागर किया है। ]
ताम्र और लौहयुग: –
● दुर्ग के करहीभदर, चिरचारी, में माहापाषाण स्मारक मिले है।
● शवो को गढ़ाने के लिए किये जाने वाला घेरा होता है।
● दुर्ग जिले के घनोरा ग्राम में 500 माहापाषाण स्मारक मिले है।
● बालोद के कर्काभांठा में – माहापाषाण घेरे और लोहे के औजार मिले है।

Join Our whatsapp group and download our app for daily notification and updates

>
Welcome to cgpsc.info

हमारे एंड्राइड अप्प को डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए प्ले स्टोर आइकॉन पर क्लिक करें- धन्यवाद